Tuesday, 9 January 2018

वाजीकरण योग की जान कोंचबीज

सिद्ध अयूर्वादिक

                 वाजीकरण योग की जान
                          कोंचबीज

                       ★★★★★

         कौंच के बीज, सफेद मूसली और अश्वगंधा के बीजों को बराबर मात्रा में मिश्री के साथ  बारीक चूर्ण

पुरुष और महिला दोनों उपयोग कर सकते है।यह योग शरीर की हर कमजोरी को दूर करता है।

                            ★★★

          कौंच को कपिकच्छू और कैवांच आदि के नामों से भी जाना जाता है। संभोग करने की शक्ति को बढ़ाने के लिए इसके बीज बहुत लाभकारी रहते हैं।

इसके बीजों का सेवन करने से वीर्य की बढ़ोत्तरी होती है, संभोग करने की इच्छा तेज होती है और शीघ्रपतन रोग में लाभ होता है।

इसके बीजों का उपयोग करने के लिए बीजों को दूध या पानी में उबालकर उनके ऊपर का छिलका हटा देना चाहिए। इसके बाद बीजों को सुखाकर बारीक चूर्ण बना लेना चाहिए।

इस चूर्ण को लगभग 5-5 ग्राम की मात्रा में सुबह और शाम मिश्री के साथ दूध में मिलाकर सेवन करने से लिंग का ढीलापन और शीघ्रपतन का रोग दूर होता है।

          कौंच के बीज, सफेद मूसली और अश्वगंधा के बीजों को बराबर मात्रा में मिश्री के साथ  बारीक चूर्ण तैयार कर लें।
★★★

इस चूर्ण में से एक चम्मच चूर्ण सुबह और शाम दूध के साथ लेने से लिंग का ढीलापन, शीघ्रपतन और वीर्य की कमी होना जैसे रोग जल्दी दूर हो जाते हैं।

★★

महिलाओं में सफेद पानी की समस्या हो तो यह योग 21दिन में पुराना रोग भी ठीक कर देता है।

और sex इच्छा की कमी को दूर करता है।

Whats करे

9417862263

No comments:

Post a Comment

सिद्ध कायाकल्प चुर्ण