Saturday, 5 October 2019

पेट रखे दरुस्त -- नही होगी कोई बीमारी

         
*100 ग्राम अजवाइन ,50 ग्राम बारीक कटा हुआ अदरक, 50 ml  नींबू का रस, और 30 ग्राम काला नमक मिलाएं और भोजन से पहले आधे घंटे पहले इसका 1चम्मच पानी से उपयोग करे उपभोग करें।*

*फ़ायदे-अपच ,गैस, जलन,कब्ज ,खट्टी डकारें खत्म होगी औऱ भोजन जल्दी पच जाएगा।*

*इसे नियमित रूप से पीने से 3-7 दिनों के भीतर पाचन में सुधार आता है।* 

🌹🌲🌹
💐💐💐
*यदि अन्य अवयव उपलब्ध नहीं हैं, तो पानी के साथ केवल काला नमक लें (1 ग्राम) यह भी काफ़ी फायदेमंद है।* 

                  🌹🥃🌹
             *पेट की हर बीमारी में*
            *गर्म अजवाइन पानी*

*एक ग्लास पानी में 1 चम्मच अजवाइन उबालकर थोड़ा ठंडा होने पर इसे भोजन के तुरंत बाद ग्रहण करें। इसे दिन में एक बार लें या तो, दोपहर के भोजन पश्चात अथवा रात के खाने के बाद लें।*

*अपच ,गैस, जलन,कब्ज ,खट्टी डकारें खत्म होगी औऱ भोजन जल्दी पच जाएगा।*

🥃🥃🥃🥃


*यदि आप सुबह उठते ही भारीपन और आलस्य महसूस करते हैं, नाश्ता छोड़ते हैं, तो जितना संभव हो उतना गर्म पानी पीते रहें।*

*रात के खाने में खिचड़ी खाएं (हरे मूंग की दाल और चावल का एक बड़ा मिश्रण, अच्छी मात्रा में पानी में पकाये।  यह आपको अपचन से राहत देगा।*
                    🍲🍲🍲
*नींबू को आधा काट लें और इसेमें काला नमक भरें। भोजन से पहले इसे चाटें। यह एक भूख जगाने वाले कारक के रूप में काम करता है। बहुत से लोग मानते हैं कि नींबू प्रकृति में अम्लीय है, लेकिन नींबू में मौजूद पोटेशियम शरीर में अम्ल को निष्क्रिय करता है।*
💐💐
*कभी-कभी अम्ल प्रतिवाह का कारण भी बन सकता है। अम्ल पाचन रस के अपर्याप्त स्राव का परिणाम है जो भोजन के साथ बहुत अधिक पानी पीने से हो सकता है। पानी पाचन रस को पतला करता है।* 

*इसके लिए सबसे अच्छा इलाज जामुन (जंबुल) है। खाने के ठीक बाद 5 से 10 जामुन खाने से अम्ल में बड़ी राहत मिलती है। पपीता खाने से भी इस स्थिति में मदद मिलती है।*
🌲🌹🌲

  *सिद्ध अयुर्वेदिक घरेलु योग online मगवाएँ*
संपर्क*
*Whats 78890 53063 /94178 62263*
        *Telegram 94178 62263*


सिद्ध कायाकल्प चुर्ण